Saturday, May 10, 2014

तट की पाषाण पर- पिटता हुआ लहर हूँ मैं...रश्मि सिंह


1.
झूठा ही सही पर तुम्हारा ही हूँ

लिखना है पर स्याही नहीं मिलती-
जाना है पर राहें नहीं मिलती...

बहारें भी जा लौट आती हैं-
लहरें भी देखो पलटती हैं...

तुम आ जाओ फिर से-
पत्थर पारस बना जाओ...

झूठा ही सही      


पर इस जन्म क़ी बात नहीं है यह-
हर जन्म में तुम्हारा ही हूँ...



2. 
तट की पाषाण पर-
पिटता हुआ लहर हूँ मैं...

तुम गयी तो लौट कर आती नहीं...
मैं बार बार- हर बार-
लौट ही आता हूँ...      



कही तुम आई होगी-
भ्रमजाल में फस तड़पता-
छटपटाता
बार बार- हर बार-
लौट ही आता हूँ मैं ...

तृष्णा कहो -वितृष्णा कहो-
सच की आग में जलता हुआ तिनका कहो...

तट की पाषाण पर-
बस पिटता हुआ एक लहर ही हूँ मैं.

#RashmiSingh     https://www.facebook.com/Rashmii.S

1 comment:

Webdesign
Billigt webdesign. Ved at bruge vores webdesign skabeloner, kan du spare mange penge, da selve webdesign delen allerede er udarbejdet.
Chinese Caligraphy Arts And Tattoo Design
Hight quality chinese calligraphy art works, free calligraphy lessons, chinese wedding calligraphy, personalized unique gift ideas and tattoo designs. Also provide articles and pictures of master calligraphy, chinese calligraphy history.
Website Text Writers
My name is celeste stewart and i am a professional website content writer. If you have a website that requires professionally written content which is optimized to do wonderfully in the search engines then you have come to the right place - call now